“स्कूल ऑफ़ प्लानिंग और आर्किटेक्चर बिल . २०१४” के बारे में बात करते हुए।

डॉ मनोज राजोरिया, बिल की स्थापना के बारे में बात कर रहे है और मानव बस्तियों के नियोजन सहित वास्तु अध्ययन में शिक्षा और अनुसंधान को बढ़ावा देने के क्रम में बिल का राष्ट्रीय महत्व बता रहे है।
इसके अलावा, वह लोगों के कल्याण के लिए राजस्थान में एक “योजना और वास्तुकला के स्कूल खोलने के लिए अनुरोध करते है।