किसान विकास पत्र योजना

kisan-vikas-patra-card

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा किसानो के हित में बनायी गयी किसान विकास पत्र केंद्र सरकार की एक योजना है। यह निवेश का दीर्घकालिक जरिया है। जिसका लाभ डाकघर से लिया जा सकता है। इसमें निवेश किया जाता है। इसमें न्यूनतम निवेश 100 रुपए तक किया जा सकता है।
इसकी परिपक्व समय अवधि आठ साल की होती है। इन आठ साल में डाकघर आपके निवेश पर 8.40 फीसदी का ब्याज लगाकर देता है। किसान विकास पत्र के तहत आपको अपना जम धन किसी अपने करीबी को ट्रांसफर करने की सुविधा होती है।

इसमें आसानी से निवेश हो सकेगा और कम आय वाले परिवारों को निवेश अच्छा मौका मिलेगा। इसमें आपका धन सौ महीने में दोगुना हो जाएगा। इसे नए रूप में लांच किया गया है, जिससे आप ढाई साल में रुपये वापस ले सकेंगे।
किसान विकास पत्र के तहत आपको अपना जम धन किसी अपने करीबी को ट्रांसफर करने की सुविधा है।

इस योजना से होने वाला लाभ :
आठ साल चार महीने में रक़म दोगुनी
निवेश की कोई सीमा नहीं
कम से कम 1000 रुपये का किसान विकास पत्र
किसान विकास पत्र 1000, 5000, 10,000 और 50,000 रुपये के मूल्य में उपलब्ध
100 महीने (आठ साल चार महीने) में दोगुना हो जाएगा
योजना के तहत सालाना 8.7 प्रतिशत का ब्याज
दूसरों को स्थानांतरण की भी सुविधा
इसके बाद 6-6 महीने में भुनाया जा सकता है
अभी सुविधा पोस्ट ऑफ़िस में, बाद में बैंक में भी उपलब्ध
शुरूआत में ये प्रमाणपत्र डाक घरों के जरिए बेचे जाएंगे लेकिन इसे जल्दी ही निवेशकों के लिए राष्ट्रीयकत बैंकों की नामित शाखाओं के जरिए निवेश के लिए उपलब्ध कराया जाएगा

इसका एक मकसद सरकार का ये भी रहेगा की देश में जो काला धन है उसको सफ़ेद किया जाये इसी वजह से नरेन्द्र मोदी जी सरकार ने इसको कुछ बदलाव के बाद दोबारा से चालू किया है

अनगिनत बार ट्रांसफर की सुविधा है इसके सर्टिफिकेट सिंगल या ज्वाइंट नामों से जारी किए जाएंगे। ये सर्टिफिकेट एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को अनगिनत बार ट्रांसफर किए जा सकेंगे। इसके अलावा, एक पोस्ट ऑफिस से देश में कहीं भी ट्रांसफर करने की सुविधा भी उपलब्ध होगी। इसके साथ नॉमिनेशन का विकल्प भी होगा। किसान विकास पत्र को गिरवी रख कर बैंकों से कर्ज भी लिया जा सकेगा। किसान विकास पत्र की खरीद पर केवाईसी नियम भी लागू होंगे।

निवेश में आसानी है इसमें केवीपी का एक फायदा यह भी है कि इसमें आसानी से निवेश किया जा सकता है। आप चाहें तो नकदी दे कर पोस्ट ऑफिसों से इसे खरीद सकते हैं। न इसके लिए बैंक खाते की जरूरत होगी और न ही चेक बुक की। एक फाइनेंशियल प्लानर के अनुसार, ऐसे लोग इनके प्रति आकर्षित हो सकते हैं, जो निवेश में झंझट नहीं चाहते

किसान विकास पत्र के तहत जमा किए गए आपके जमाधन पर जितना ब्याज लगता है उस ब्याज पर सरकार टैक्स वसूल करती है। किसान विकास पत्र में निवेश की कोई उच्चतम सीमा नहीं है और इसे 30 महीने की तय समयसीमा के बाद भुनाया जा सकता है। हालांकि बचतकर्ताओं को अपने निवेश पर कोई कर रियायत नहीं मिलेगी।

मै हमारे प्रधानमंत्री जी श्री नरेन्द्र मोदी जी को किसान विकास पत्र योजना को शुरू करने के लिए उनका हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ !