मिशन इंद्रधनुष योजना

indra danush yojna (1)

मिशन इंद्रधनुष अभियान को भारत सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय सभी बच्चों को टीकाकरण के अंतर्गत लाने के लिये “‘मिशन इंद्रधनुष'” को सुशासन दिवस के 15 दिसंबर 2014 अवसर पर प्रारंभ किया गया था इंद्रधनुष के सात रंगों को प्रदर्शित करने वाला मिशन इंद्रधनुष का उद्देश्य उन बच्चों का 2020 तक टीकाकरण करना है जिन्हें टीके नहीं लगे हैं या डिफ्थेरिया ,बलगम, टिटनस ,पोलियो ,तपेदिक ,खसरा तथा हेपिटाइटिस-बी को रोकने जैसे सात टीके आंशिक रूप से लगे हैं।

यह कार्यक्रम हर साल 5 प्रतिशत या उससे अधिक बच्चों के पूर्ण [टीकाकरण]] में तेजी से वृद्धि के लिए विशेष अभियानों के जरिए चलाया जाएगा। पहले चरण में देश में 201 जिलों की पहचान की है, जिसमें 50 प्रतिशत बच्चों को टीके नहीं लगे हैं या उन्हें आंशिक रूप से टीके लगाए गए हैं’ इन जिलों को नियमित रूप से टीकाकरण की स्थिति सुधारने के लिए लक्ष्य बनाया जाएगा। मंत्रालय का कहना है कि 201 जिलों में से 82 ज़िले केवल चार राज्य उत्तर प्रदेश ,बिहार,मध्यप्रदेश तथा राजस्थान से हैं और चार राज्यों के 42 ज़िलों में 25 प्रतिशत बच्चों को टीके नहीं लगाए गए हैं या उन्हें आंशिक रूप से टीके लगाए गए हैं।
भारत में टीकों से वंचित या आंशिक टीकाकरण वाले करीब 25 प्रतिशत बच्चे इन चार राज्यों के 82 ज़िलों में हैं। मिशन इंद्रधनुष के तहत पहले चरण में 201 जिलों कोसर्वोच्च प्राथमिकता देने का लक्ष्य तय किया है तथा 2015 में दूसरे चरण में 297 ज़िलों को लक्ष्य बनाया गया है ‘ मिशन के पहले चरण का कार्यान्वयन 201 उच्च प्राथमिकता वाले जिलों में 7 अप्रैल 2015 पर विश्व स्वास्थ्य दिवस से प्रारंभ हुआ ।
यह केंद्रीय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय एवं हमारे प्रधानमंत्री जी श्री नरेन्द्र मोदी जी की तरफ से भारत को रोगमुक्त करने के लिए बहुत अनूठी पहल है । केंद्र सरकार और श्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमारे देश में फ़ैल रही बीमारियों को देखते हुए यह योजना शुरु की । कोई भी बच्चा बिना टीके के नहीं रहना चाहिए यही लक्ष्य था इस योजना को चालू करने के पीछे एवं देश की समृद्धि में भी सहायक है ।
कहते है पहला सुख निरोगी काया अर्थात जब तक हम रोगों से मुक्त नहीं होंगे तब तक कैसे उम्मीद कर सकते है की हम देश के विकास में एवं देश को आगे बड़ा सकते है । मै इस अनूठी पहल के लिए मेरी एवं मेरे प्रदेशवासियों की तरफ से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय एवं हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ ।