स्मार्ट सिटी मिशन‬

smart-city-yojana

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने अगले चरण की तरफ बढ़ते हुए समार्ट सिटी (Smart City) प्रोजेक्ट प्रारम्भ किया | इसके तहत देश में 100 शहरो को समार्ट सिटी बनाने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया | कम से कम एक समार्ट सिटी सभी राज्यों में हो ऐसा पैमाना तैयार किया गया | 25 जून 2015 को स्वयं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी समार्ट सिटी प्रोजेक्ट को देश वासियों के सामने पैश किया |
-इसके अंतर्गत प्रत्येक राज्य में एक समार्ट सिटी होगी |
-उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी का कार्य दो चरणों में होगा पहला नयी स्मार्ट सिटी का निर्माण, दूसरा पुराणी सिटी का नवीनीकरण | नयी स्मार्ट सिटी के लिए दो बड़े शहरों के बीच एक समार्ट सिटी देने की सोच हैं | जिस शहर में 1 लाख से अधिक की आबादी हैं उसे समार्ट सिटी बनाया जायेगा |
-जिन शहरों को समार्ट सिटी बनाना हैं उसमे म्यूनिसिपल कारपोरेशन, बिजली की व्यवस्था एवम पानी की व्यवस्था के साथ ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था होना जरुरी हैं | साथ ही आईटी इस्तेमाल शहर हो | साथ ही यह भी कहा गया कि एक समार्ट सिटी अपने नजदीकी शहर को विकास में मदद मिलेगी | स्मार्ट सिटी में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के शहरों के नाम सम्मिलित किये गये |
स्मार्ट सिटी के लाभ-
1-देश में जो महा नगर हैं उन्हें तो सभी सुविधायें मिलती ही है फिर वो तकनीकी ज्ञान हो यह व्यावहारिक ज्ञान यहाँ के स्टूडेंट हर मायने में सामान्य शहरी लोगो की तुलना में स्मार्ट होते हैं ऐसे में हर प्रदेश में स्मार्ट सिटी का आना सभी के लिए कारगर साबित होगा
2-छोटे- छोटे गाँव में विकास बहुत ही धीरे होता हैं ऐसे में स्मार्ट सिटी का आना इन गाँव के विकास में मदद करेगा |
3- छोटे शहरों के स्टूडेंट में भी कला, ज्ञान के बहुत अच्छे उदहारण मिलते हैं पर उन्हें उचित प्लेटफार्म नहीं मिलता लेकिन स्मार्ट सिटी जैसे प्रोजेक्ट के कारण उन्हें भी समय पर और थोड़ी आसानी से आगे बढ़ने का मौका मिलेगा |
4-स्मार्ट सिटी में बाहरी कंपनी अपनी कंपनी ओपन करेंगी जिससे रोजगार मिलेगा और गरीबी में नियंत्रण होगा |
5-स्मार्ट सिटी का यह सपना बहुत बड़ा हैं बस जिस रोड मैप के साथ इसे लाया जा रहा हैं अगर उसी दिशा में पूरी ईमानदारी के साथ कार्य किया जायेगा तो जरुर एक दिन भारत भी स्मार्ट कंट्री में गिना जायेगा |
25 जून 2015 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्मार्ट सिटी के कॉन्सेप्ट को देशवासियों के सामने रखा जिनमे उन्होंने सीधे देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि आपका शहर स्मार्ट सिटी बनने के लिए सही हैं या नहीं | यह केवल आपका शहर ही तय करेगा | मोदी जी ने एक लाइन कहते हुए स्मार्ट सिटी के कॉन्सेप्ट को परिभाषित किया “ ऐसा शहर जो नागरिक की जरुरत से दो कदम आगे हो ” |
स्मार्ट सिटी (Smart City) के लिए कुछ मापदंड तैयार किये गये हैं जिस शहर में यह सभी गुण होंगे उन्हें स्मार्ट सिटी में शामिल किया जायेगा | यह सभी गुण होने पर एक शहर को स्मार्ट सिटी कहा जायेगा |
स्मार्ट सिटी के लिए मापदंड कुछ इस तरह हैं-
1-24 घंटे बिजली एवम पानी की सुविधा होना चाहिये |
2- शहर में उचित ट्रांसपोर्ट सुविधा होना चाहिये |
3- सड़को का उचित वर्गीकरण होना चाहिये जिसके तहत फुटपाथ एवम वाहन पाथ उचित तरह से बनाये जायें |
4- हाईटेक ट्रांसपोटेर्शन होना चाहिये |पब्लिक यातायात सुगम होना चाहिये |
5- शहर में हरियाली होना चाहिये |
6- शहर एक अच्छी योजना के तहत बढायें गये हों |
7- पुरे शहर में वाईफाई सिग्नल हो |
8- शहर में एक स्मार्ट पुलिस स्टेशन भी होगा |
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने अपनी स्पीच में देश वासियों से पूरा सहयोग देने का अनुरोध किया | जिस प्रकार स्वच्छ भारत मिशन में सरकार से ज्यादा एक्टिव जनता एवम मीडिया हैं उसी प्रकार अपने शहर को स्मार्ट सिटी बनाने में सभी नागरिको को भी जागरूक होना होगा |
स्मार्ट सिटी का यह फैसला हम सभी के लिए बहुत अच्छा होगा | देश के विकास के लिए शहरो के विकास जरुरी हैं और साथ ही गाँव की रुपरेखा भी सुधारना बहुत जरुरी हैं | जिसके लिए हर राज्य में एक स्मार्ट सिटी होना जरुरी हैं | और जिस दिन यह कार्य हो जायेगा देश का विकास तेजी से होगा |
स्मार्ट सिटी एक ऐसा कॉन्सेप्ट हैं जो हम सभी को डिजीटल दुनियाँ के और भी करीब ले जायेगा | जिससे विज्ञान की तेजी के साथ ही हम सबका का मानसिक विकास होगा | हममे और पश्चिमी देशो में बस डिजिटलाइजेशन का ही फर्क हैं | हमारे विकास की दर कम हैं उसका कारण हैं डिजिटल दुनियाँ से हमारी दुरी | अगर हम यह दुरी तय कर लेते हैं तो हम आसानी से विकसित देश की गिनती में आ खड़े होंगे |