नारी सशक्तिकरण में भामाशाह योजना का महत्व

12814393_779119802221507_2101440468247884759_n

इस योजना की परिकल्पना भी उनके पिछले शासनकाल में बहनों को ‘पावर वूमन’ बनाने के उद्देश्य से 2008 में ही कर दी गई थी, लेकिन सरकार बदलने के साथ ही इस योजना को बंद कर दिया गया। जबकि उस वक्त ‪भाजपा‬ ‪सरकार‬ ने इस योजना में 45 लाख 78 हजार महिलाओं का नामांकन कर, महिलाओं के 29 लाख 7 हजार बैंक खाते खुलवाकर, 160 करोड़ रुपये बैंकों में जमा करा दिये थे। करीब 8 हजार कार्ड भी वितरित कर दिये गये थे। लेकिन भाजपा सर्कार ने इस योजना को दोबारा से सफलतापूर्वक चालू किया

‪भामाशाह‬ ‪योजना‬ राजस्थान सरकार की महिला वित्तीय सशक्तीकरण की सबसे बड़ी योजना है। ‪‎मुख्यमंत्री‬ श्रीमती ‪वसुन्धरा‬ ‪राजे‬ ‪सिंधिया‬ ने 15 अगस्त, 2014 को मेवाड़ अंचल के उदयपुर शहर से इस योजना का शुभारंभ किया। यह ड्रीम प्रोजेक्ट देश की आजादी के पावन दिवस पर प्रदेश की करीब डेढ़ करोड़ महिलाओं के लिये ‘वित्तीय आजादी’ का उपहार है, जो उन्हें आर्थिक रूप से परिवार पर निर्भर रहने की मजबूरी से मुक्त करेगा। इसके माध्यम से भाजपा सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत मिलने वाले लाभ, इन्हीं बैंक खातों में जमा हों रहे है । यह योजना प्रदेश की नारी शक्ति को एकता के सूत्र में बांधकर आर्थिक अधिकार देने का प्रयास भी है।

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने जी ने 15 दिसम्बर को देश के पहले ऐसे भामाशाह योजना ‪कार्ड‬ का वितरण शुरू किया जिसमें परिवार की महिला मुखिया के साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्यों की भी पहचान है। अजमेर के पटेल मैदान में आयोजित एक बड़े समारोह में मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे जी ने इस कार्ड से लाभ हस्तान्तरण का भी शुभारंभ किया।यह योजना प्रदेश की महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में राज्य की भाजपा सरकार की दृढ़-इच्छाशक्ति एवं संकल्प का प्रतीक है। यह योजना करोड़ों महिलाओं के सपने साकार कर रही है ।

इस कार्ड को बैंक प्रणाली के साथ जोड़ा गया है। पंजाब नेशनल बैंक, बैंक आॅफ बड़ौदा, स्टेट बैंक आॅफ बीकानेर एण्ड जयपुर, आईसीआईसीआई, काॅपोर्रेशन तथा इण्डियन ओवरसीज बैंक का आभार, जिन्होंने बैंक प्रणाली के साथ भामाशाह योजना को जोड़कर इसकी काॅ-ब्राडिंग की।मोबाइल नम्बर पर हर लेन-देन की सूचना उपलब्ध होगी, जब भी किसी प्रकार की लाभ राशि खाते में ट्रांसफर होगी या निकाली जायेगी, तो इसकी सूचना मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से तुरन्त मिलेगी। इससे कार्डधारी महिला को हर लेन-देन की पूर्ण जानकारी रहेगी।

राज्य की भाजपा सरकार इस योजना में हर ‪‎बीपीएल‬ ‪‎परिवार‬ की मुखिया महिला के खाते में दो किश्तों में दो हजार रुपये की राशि ट्रांसफर कर रही है , इसके लिए राज्य के लगभग डेढ़ करोड़ परिवारों की महिलाओं के नाम से बैंक खाते खोले जा चुके है और खोले जा रहे है । वितरण के साथ ही बीपीएल ‪‎मुखियामहिला‬ के खाते में पहली किश्त के एक हजार रुपये डाल दिये गए है । पहली किश्त के 6 महीने बाद पुनः खाते में एक हजार रुपये की दूसरी किश्त ट्रांसफर होगी। इसके अलावा बीपीएल परिवार के जिन सदस्यों के आधार कार्ड बन गये हैं उन्हें प्रति सदस्य 100 रुपये अलग से दिये जायेंगे। हमने इस कार्ड का प्रधानमंत्री की जन धन योजना के साथ एकीकरण भी कर दिया है, जिससे अन्य योजनाओं का लाभ भी मिल सके।

‪भामाशाहस्वास्थ्यबीमा‬ योजना में 1700 से अधिक बीमारियों के उपचार का पैकेज दिया गया है। इस योजना में भामाशाह कार्डधारी जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना व राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में चयनित हैं, वे अधिकृत अस्पतालों में जाकर कैशलेस उपचार करवा सकेंगे। अभी तक 70 लाख लोगो तक इसका लाभ पहुच चुका है एवं 154 से भी अधिक सरकारी योजनाओं का लाभ भामाशाह प्लेटफार्म के जरिए दिया जाएगा।इसमें 30 हजार रुपए से लेकर 3 लाख रुपए तक का इलाज करवाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त गंभीर बीमारियों के लिए अलग से फंड की भी व्यवस्था की जा सकती है। वसुंधरा सरकार ने इस योजना के तहत वर्ष 2014-15 के लिए 600 करोड़ रूपए का आवंटन किया है।

भामाशाह कार्डधारी महिलाएं बायोमैट्रिक पद्धति से राशन की दुकानों से सामग्री भी खरीद सकेंगी। प्रदेश में कुछ राशन की दुकानों पर यह सुविधा दे दी गई है। आने वाले समय में प्रदेश की सभी राशन दुकानों पर यह सुविधा उपलब्ध करवायी जायेंगी। जब तक राशन दुकानदार बायोमैट्रिक पद्धति से राशन सामग्री का वितरण नहीं करेगा तब तक उसको सरकार की ओर से दिये जाने वाले कमीशन का भुगतान नहीं होगा।

‪‎